त्रिपोली में भीषण संघर्ष के बाद नवनियुक्त प्रधानमंत्री को छोड़ना पड़ा शहर

त्रिपोली में भीषण संघर्ष के बाद नवनियुक्त प्रधानमंत्री को छोड़ना पड़ा शहर

: , May 17, 2022 / 07:25 PM IST

काहिरा, 17 मई (एपी) लीबिया के प्रतिद्वंद्वी प्रधानमंत्रियों में से एक द्वारा त्रिपोली में अपनी सरकार बनाने की कोशिश के चलते मंगलवार को यहां प्रतिस्पर्धी मिलिशिया के बीच संघर्ष शुरू हो गया जिससे नव नियुक्त प्रधानमंत्री को शहर छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।

इस घटनाक्रम ने युद्धग्रस्त देश में नाजुक हालात को रेखांकित किया, जबकि दोनों प्रतिद्वंद्वी प्रधानमंत्रियों ने इस स्थिति के लिये एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराया।

प्रधानमंत्री फथी बाशाघा के कार्यालय ने कहा कि वह एक अंतरिम सरकार का नेतृत्व करने के लिए उनकी नियुक्ति के तीन महीने बाद मंगलवार तड़के कई कैबिनेट मंत्रियों के साथ त्रिपोली पहुंचे थे।

इस कदम से लीबिया के प्रतिद्वंद्वी प्रशासनों के बीच तनाव और बढ़ने की संभावना थी और सुबह स्थानीय मीडिया ने मध्य त्रिपोली और शहर में अन्य जगहों पर विभिन्न मिलिशिया और प्रतिद्वंद्वी बलों के बीच संघर्ष की सूचना दी।

संकटग्रस्त प्रधानमंत्री अब्दुल हामिद दबेबा की त्रिपोली स्थित सरकार ने अपने प्रतिद्वंद्वी (बशाघा के संदर्भ में) को फटकार लगाते हुए मंगलवार के घटनाक्रम को लीबिया की राजधानी में एक सशस्त्र समूह की “आतंक और अराजकता फैलाने की कोशिश” करार दिया।

स्थानीय निवासियों ने शहर में भारी गोलीबारी की सूचना दी। शहर के स्कूल में एक शिक्षक सलीम अहमद ने कहा, “हर जगह गोलीबारी और गोलियां चलने की आवाजें आ रही थीं।” राजधानी के कुछ स्कूलों ने कक्षाएं निलंबित कर दीं।

बाशाघा के कार्यालय ने कहा कि उन्होंने और उनके मंत्रियों ने बाद में “नागरिकों की सुरक्षा और रक्तपात को रोकने के लिए” त्रिपोली छोड़ दिया। बाशाघा ने ट्वीट किया कि उन्होंने “हिंसा का उपयोग किए बिना शांतिपूर्वक” शहर में प्रवेश किया था, लेकिन उनका सामना प्रतिद्वंद्वी के प्रति वफादार सशस्त्र समूहों की खतरनाक गोलीबारी से हुआ।

लीबिया पर संयुक्त राष्ट्र की विशेष सलाहकार स्टेफ़नी विलियम्स ने प्रतिद्वंद्वी पक्षों से शांति बरतने और अपने विवादों को सुलझाने के लिए बातचीत में शामिल होने का आग्रह किया।

उन्होंने ट्वीट किया, “संघर्ष को हिंसा से नहीं, बल्कि बातचीत और मध्यस्थता से हल किया जा सकता है।” उन्होंने कहा कि “लीबिया को स्थिरता और चुनावों के लिए एक वास्तविक, सहमति से आगे बढ़ने में मदद करने के लिए संयुक्त राष्ट्र सभी पक्षों की मेजबानी के लिए तैयार है।”

पूर्व आंतरिक मंत्री, बाशाघा को फरवरी में देश के पूर्वी इलाके में आधारित संसद द्वारा प्रधानमंत्री नामित किया गया था। हालांकि अमीर कारोबारी देबिबा ने पद छोड़ने से इनकार करते हुए जोर देकर कहा था कि वह सिर्फ चुनी हुई सरकार को सत्ता सौंपेंगे। दोनों नेता शक्तिशाली पश्चिमी शहर मिसराता से आते हैं।

एपी

प्रशांत पवनेश

पवनेश

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)