“कोई पत्रकार नहीं मरना चाहिए” : यूरोपीय संघ ने मीडियाकर्मियों के लिये बेहतर सुरक्षा का आह्वान किया

“कोई पत्रकार नहीं मरना चाहिए” : यूरोपीय संघ ने मीडियाकर्मियों के लिये बेहतर सुरक्षा का आह्वान किया

Edited By: , September 16, 2021 / 07:14 PM IST

ब्रसेल्स, 16 सितंबर (एपी) यूरोपीय संघ (ईयू) की कार्यकारी शाखा ने बृहस्पतिवार को अपने सदस्य देशों से कहा कि मीडिया पेशेवरों के खिलाफ शारीरिक हमलों व ऑनलाइन खतरों के बढ़ते मामलों के बीच उन्हें बेहतर सुरक्षा प्रदान करना सुनिश्चित करें।

यूरोपीय आयोग के अनुसार, 2020 में 27 देशों के संघ में 908 पत्रकारों और मीडिया कर्मियों पर हमला किया गया था। 1992 से यूरोपीय संघ में कुल 23 पत्रकार मारे गए हैं, जिनमें से अधिकांश हत्याएं पिछले छह वर्षों में हुई हैं।

मूल्यों और पारदर्शिता के लिए आयोग के उपाध्यक्ष वेरा जौरोवा ने कहा, “किसी भी पत्रकार को उसकी नौकरी के कारण मारा या नुकसान नहीं पहुंचाया जाना चाहिए। हमें पत्रकारों का समर्थन और सुरक्षा करने की जरूरत है; वे लोकतंत्र के लिए आवश्यक हैं।” उन्होंने कहा, “महामारी ने हमें सूचित करने के लिए पत्रकारों की महत्वपूर्ण भूमिका को पहले से कहीं अधिक दर्शाया है। सार्वजनिक अधिकारियों द्वारा उनकी सुरक्षा के लिए और अधिक करने की तत्काल आवश्यकता है।” यूरोप में पत्रकारों की हत्या के मामले आमतौर पर न के बराबर हैं, लेकिन हाल के वर्षों में स्लोवाकिया और माल्टा में पत्रकारों की हत्याओं ने विकसित, लोकतांत्रिक समाजों में पत्रकारों की सुरक्षा के बारे में चिंता बढ़ाई है।

यूरोपीय संघ के अनुसार, 73 प्रतिशत महिला पत्रकारों ने ऑनलाइन हिंसा का अनुभव किया है और आयोग ने कहा कि यूरोपीय संघ के देशों को “अल्पसंख्यक समूहों से संबंधित महिला पत्रकारों, पेशेवरों और समानता के मुद्दों पर रिपोर्टिंग करने वालों को सशक्त बनाने के उद्देश्य से पहल का समर्थन करना चाहिए।”

एपी

प्रशांत उमा

उमा