क्वाड नेताओं ने वायरस को मात देने के लिए वैश्विक स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने का संकल्प जताया |

क्वाड नेताओं ने वायरस को मात देने के लिए वैश्विक स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने का संकल्प जताया

क्वाड नेताओं ने वायरस को मात देने के लिए वैश्विक स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने का संकल्प जताया

:   Modified Date:  November 29, 2022 / 08:47 PM IST, Published Date : May 24, 2022/5:50 pm IST

तोक्यो, 24 मई (भाषा) क्वाड समूह (भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका) के नेताओं ने कोरोना वायरस को मात देने के लिए वित्त और मौजूदा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी समन्वय को बढ़ाने समेत वैश्विक स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत करने का मंगलवार को संकल्प जताया।

क्वाड देशों ने पिछले साल 21 मार्च को अपनी पहली बैठक के दौरान ‘क्वाड टीका साझेदारी’ की घोषणा की थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा और ऑस्ट्रेलिया के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज द्वारा मंगलवार को बैठक के बाद जारी बयान में कहा गया कि क्वाड देशों ने कोविड-19 से निपटने के लिए किए गए वैश्विक प्रयासों की अगुवाई की है और इसे जारी रखा जाएगा।

संयुक्त बयान के मुताबिक, वायरस को मात देने के मद्देनजर बेहतर स्वास्थ्य प्रणाली और वैश्विक स्वास्थ्य ढांचे के निर्माण पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

बयान में कहा गया, ”वायरस के नये स्वरूप से निपटने और इसे मात देने के मद्देनजर हम अपने सामूहिक दृष्टिकोण को अपनाने का संकल्प लेते हैं। उच्च जोखिम वाले देश को टीका, परीक्षण, उपचार और अन्य चिकित्सा उपकरणों की सहायता दी जाएगी।”

बयान के मुताबिक, अब तक क्वाड साझेदारों ने संयुक्त रूप से कोवेक्स योजना के अंतर्गत करीब 5.2 अरब डॉलर का संकल्प जताया है जोकि सरकारी दानकर्ताओं का लगभग 40 फीसदी हिस्सा है।

बयान में कहा गया, ”हिंद-प्रशांत की 26.5 करोड़ समेत कोविड-रोधी टीके की करीब 67 करोड़ खुराकों की आपूर्ति के लिए हमे गर्व है। कोविड-19 टीके की वैश्विक आपूर्ति में महत्वपूर्ण विस्तार के साथ हम सुरक्षित, प्रभावी, किफायती और गुणवत्तापूर्ण टीके साझा करना जारी रखेंगे, जहां भी और जब भी इनकी आवश्यकता होगी।”

क्वाड देशों ने क्वाड टीका साझेदारी के तहत भारत स्थित बायोलॉजिकल-ई में जे एंड जे टीके के उत्पादन की प्रगति का स्वागत किया और कहा कि ऐसे कदम कोविड-19 के अलावा भविष्य की महामारी से निपटने में मददगार साबित होंगे।

भाषा शफीक उमा

उमा

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers