टोंगा ज्वालामुखी विस्फोट ने हमारी वैश्विक दूरसंचार प्रणाली में कमजोरियों का खुलासा किया

टोंगा ज्वालामुखी विस्फोट ने हमारी वैश्विक दूरसंचार प्रणाली में कमजोरियों का खुलासा किया

: , January 19, 2022 / 01:19 PM IST

डेल डोमिनी-होवेस, सिडनी विश्वविद्यालय,

सिडनी, 19 (द कन्वरसेशन) टोंगा में एक बड़े ज्वालामुखी विस्फोट के कारण, द्वीपों के निवासियों के साथ साथ अधिकांश संचार प्रणाली भी थम सी गई है। हमारी आधुनिक, अत्यधिक कनेक्टेड दुनिया में, वैश्विक डेटा ट्रांसफर का 95% से अधिक फाइबर-ऑप्टिक केबल के जरिए होता है जो दुनिया के महासागरों से होकर गुजरता है।

इस महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे के टूटने या इसमें रुकावट आने के स्थानीय, क्षेत्रीय और यहां तक ​​कि वैश्विक परिणाम भी विनाशकारी हो सकते हैं। शनिवार की ज्वालामुखी-सुनामी आपदा के बाद टोंगा में ठीक ऐसा ही हुआ है। लेकिन यह पहली बार नहीं है जब किसी प्राकृतिक आपदा ने महत्वपूर्ण पनडुब्बी केबल्स को काट दिया है, और ऐसा भी नहीं है कि दोबारा ऐसा नहीं होगा।

1989 के बाद से 885,000 किलोमीटर से अधिक केबल बिछाई गई है। ये केबल संकरे गलियारों और तथाकथित महत्वपूर्ण ‘‘चोक पॉइंट्स’’ के बीच से गुजरते हैं और ज्वालामुखी विस्फोट, पानी के भीतर भूस्खलन, भूकंप और सूनामी सहित विभिन्न प्राकृतिक खतरों में इनके क्षतिग्रस्त होने की आशंका बनी रहती है।

टोंगा में वास्तव में क्या हुआ है?

पिछले दशक में टोंगा केवल वैश्विक पनडुब्बी दूरसंचार नेटवर्क से जुड़ा था। इसके द्वीप इस प्रणाली पर बहुत अधिक निर्भर रहे हैं क्योंकि यह उपग्रह और स्थिर बुनियादी ढांचे जैसी अन्य तकनीकों की तुलना में अधिक स्थिर है।

टोंगा की स्थिति अभी भी अस्पष्ट है, और कुछ विवरणों की पुष्टि की जानी बाकी है – लेकिन ऐसा लगता है कि एक या अधिक ज्वालामुखी प्रक्रियाओं (जैसे सुनामी, पनडुब्बी भूस्खलन या अन्य पानी के नीचे की धाराएं) ने 872 किमी लंबी फाइबर-ऑप्टिक केबल को क्षतिग्रस्त कर दिया है, जो टोंगा को दुनिया के बाकी हिस्सों से जोड़ता है। अधिकारियों द्वारा केबल सिस्टम को बंद या डिस्कनेक्ट नहीं किया गया था।

इसका व्यापक प्रभाव पड़ा है। ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में रहने वाले टोंगन अपने प्रियजन का हालचाल मालूम करने के लिए उनसे संपर्क नहीं कर सकते। इसने टोंगन सरकारी अधिकारियों और आपातकालीन सेवाओं के लिए एक दूसरे के साथ संवाद करना और स्थानीय समुदायों के लिए सहायता और बचाव संबंधी जरूरतों के बारे में मालूमात हासिल करना भी मुश्किल बना दिया है।

दूरसंचार बाधित है और नियमित इंटरनेट कामकाज के साथ भी ऐसा ही है। यह ऑनलाइन सेवाओं को भी बाधित करते रहते हैं, जिससे चीजें बदतर हो जाती हैं। टोंगा विशेष रूप से इस प्रकार के व्यवधान की चपेट में है क्योंकि राजधानी नुकु’आलोफ़ा को फ़िजी से जोड़ने वाली केवल एक केबल है, जो 800 किमी से अधिक दूर है। कोई अंतर-द्वीप केबल मौजूद नहीं है।

अन्य पनडुब्बी केबल्स के लिए जोखिम

टोंगा की घटनाएं एक बार फिर उजागर करती हैं कि वैश्विक अंडरसी केबल नेटवर्क कितना नाजुक है और यह कितनी जल्दी ऑफ़लाइन हो सकता है। 2009 में, मैंने विभिन्न प्राकृतिक खतरों की प्रक्रियाओं के लिए पनडुब्बी दूरसंचार नेटवर्क की कमजोरियों का विवरण देते हुए एक अध्ययन का सह-लेखन किया। और तब से कुछ भी नहीं बदला है

केबल पृथ्वी की सतह पर दो बिंदुओं के बीच सबसे छोटी (अर्थात सबसे सस्ती) दूरी पर बिछाई जाती हैं। उन्हें विशेष भौगोलिक स्थानों के साथ भी बिछाना पड़ता है जिससे प्लेसमेंट आसान हो जाते हैं, यही वजह है कि कई केबल चोक पॉइंट्स में बिछाए जाते हैं।

चोक पॉइंट के कुछ अच्छे उदाहरणों में हवाई द्वीप, स्वेज नहर, गुआम और इंडोनेशिया में सुंडा जलडमरूमध्य शामिल हैं। असुविधाजनक रूप से, ये ऐसे स्थान भी हैं जहां बड़े प्राकृतिक हादसों की आशंका बनी रहती है।

एक बार क्षतिग्रस्त हो जाने के बाद, केबल की गहराई और वहां तक कितने समय में पहुंचा जा सकता है, के आधार पर टूटी हुई केबलों को ठीक करने में दिनों से लेकर सप्ताह (या उससे भी अधिक) लग सकते हैं। संकट के समय, इस तरह के अवरोध सरकारों, आपातकालीन सेवाओं और धर्मार्थ संगठनों के लिए बचाव कार्य करना बहुत कठिन बना देते हैं।

इनमें से कई अंडरसी केबल सक्रिय ज्वालामुखियों, उष्णकटिबंधीय चक्रवातों और/या सक्रिय भूकंप क्षेत्रों से प्रभावित क्षेत्रों के करीब से या सीधे गुजरते हैं।

कई मायनों में, ऑस्ट्रेलिया भी बहुत संवेदनशील है (जैसा कि न्यूजीलैंड और बाकी दुनिया है) क्योंकि हम सिर्फ सिडनी और पर्थ से बहुत कम कनेक्शन बिंदुओं द्वारा वैश्विक केबल नेटवर्क से जुड़े हैं।

सिडनी और ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी समुद्र तट के संबंध में, हम जानते हैं कि अतीत में सिडनी के तट की तरफ पानी के नीचे बड़े भूस्खलन हुए हैं। भविष्य की घटनाएं उस नेटवर्क के महत्वपूर्ण हिस्से को नुकसान पहुंचा सकती हैं जो हमसे जुड़ता है।

हम आने वाले जोखिम का प्रबंधन कैसे करते हैं?

नेटवर्क की भेद्यता को देखते हुए, जोखिम को कम करने के लिए पहला कदम समुद्र तल पर विशेष स्थानों और विभिन्न प्रकार के प्राकृतिक खतरों के लिए पनडुब्बी केबल्स के वास्तविक जोखिम को मापने और मूल्यांकन करने के लिए अनुसंधान करना है। उदाहरण के लिए, उष्णकटिबंधीय चक्रवात (तूफान/टाइफून) नियमित रूप से आते हैं, लेकिन भूकंप और ज्वालामुखी विस्फोट जैसी अन्य आपदाएं कम बार आती हैं।

वर्तमान में, वैश्विक पनडुब्बी केबल नेटवर्क के लिए जोखिम पर सार्वजनिक रूप से उपलब्ध डेटा बहुत कम है। एक बार जब हम जान जाते हैं कि कौन से केबल असुरक्षित हैं, और किस प्रकार के खतरों के लिए, तो हम जोखिम को कम करने के लिए योजनाएँ विकसित कर सकते हैं।

साथ ही, सरकारों और दूरसंचार कंपनियों को हमारे संचार के तरीके में विविधता लाने के तरीके खोजने चाहिए, जैसे कि उपग्रह-आधारित प्रणालियों और अन्य तकनीकों का अधिक उपयोग करके।

द कन्वरसेशन एकता एकता

एकता

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)