खराब रिजल्ट वाले स्कूलों के प्राचार्यों पर गिरी गाज, रोकी गई 125 प्रिंसिपल की दो साल की वेतन वृद्धि

खराब रिजल्ट वाले स्कूलों के प्राचार्यों पर गिरी गाज, रोकी गई 125 प्रिंसिपल की दो साल की वेतन वृद्धि

Edited By: , March 26, 2021 / 11:30 AM IST

रीवा: मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार शिक्षण सत्र के शुरुआत होने के साथ ही सभी जिलों के अधिकारियों को शिक्षा गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं। सीएम के निर्देशानुसार रीवा संभाग कमिश्नर अशोक कुमार भार्गव ने गुरूवार को साल 2018—19 में खराब रिजल्ट वाले स्कूलों के प्राचार्यों पर कार्रवाई की है। अशोक कुमार ने 125 प्राचार्यों की वेतन वृद्धि रोकने के निदेश दिए हैं।

Read More: मुख्यमंत्री का बड़ा फैसला, कहा- नियमित होंगे सभी संविदा कर्मचारी, सेवा में नहीं रहने के दौरान मिलेगी 90 प्रतिशत सैलरी

आशोक कुमार भार्गव ने कहा कि स्कूलों के परीक्षा परिणाम इस वर्ष अत्यंत निराशाजनक रहे हैं, अत: उन विद्यालयों के प्राचार्यों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही आगामी शिक्षण सत्र में सुधार लाने की दृष्टि से की गई है। ताकि प्राचार्य अधिक सजगता और जागरूकता के साथ शिक्षण कार्य को अंजाम दे सकें। जिन स्कूलों के परीक्षा परिणाम अच्छे रहे हैं उन स्कूलों के प्राचार्यों को समारोह पूर्वक सम्मानित भी किया गया है।

<blockquote class=”twitter-tweet” data-lang=”en”><p lang=”hi” dir=”ltr”>रीवा कमिश्नर डॉ.अशोक कुमार भार्गव ने शिक्षण सत्र 2018-19 में रीवा संभाग के अन्तर्गत हाई स्कूल एवं हायर सेकेण्डरी विद्यालयों का वार्षिक परीक्षा परिणाम 30 प्रतिशत से कम रहने वाली संस्थाओं के 125 प्राचार्यों की दो-दो की वार्षिक वेतन वृद्धि रोकी।<br>Read More: <a href=”https://t.co/XDxft5gpj1″>https://t.co/XDxft5gpj1</a> <a href=”https://t.co/3c8ryAx6rq”>pic.twitter.com/3c8ryAx6rq</a></p>&mdash; Jansampark MP (@JansamparkMP) <a href=”https://twitter.com/JansamparkMP/status/1156919538404872192?ref_src=twsrc%5Etfw”>August 1, 2019</a></blockquote>
<script async src=”https://platform.twitter.com/widgets.js” charset=”utf-8″></script>

Read More: पर्स से 10 रुपए निकालने के आरोप में पति ने की खुदकुशी, पत्नी की शिकायत के बाद पुलिस ने की थी सरेआम पिटाई

इन जिलों के प्राचार्यों पर गिरी गाज
वार्षिक परीक्षा परिणाम 30 प्रतिशत से कम रहने वाली संस्थाओं के 125 प्राचार्यों की दो-दो वार्षिक वेतन वृद्धियां रोकने की कार्यवाही की है। इनमें रीवा जिले के 25, सतना के 29, सीधी के 41 एवं सिंगरौली के 30 प्राचार्यों की वेतन वृद्धियां रोकी गई हैं। संभाग में 5 प्रतिशत तक परीक्षा परिणाम वाले स्कूलों में सीधी जिले के 2 एवं सिंगरौली का एक, 6 से 10 प्रतिशत तक परीक्षा परिणाम वाले स्कूलों में रीवा का एक, सतना के 2, सीधी का एक एवं सिंगरौली के 4 स्कूल शामिल हैं। इसी तरह 11 से 15 प्रतिशत तक परीक्षा परिणाम वाले स्कूलों में रीवा के 2, सतना के 5, सीधी के 6 एवं सिंगरौली के 7 स्कूल शामिल हैं। 16 से 20 प्रतिशत वाले स्कूलों में रीवा के 3, सतना के 2, सीधी के 9 एवं सिंगरौली के 3 स्कूल शामिल हैं। 21 से 25 प्रतिशत तक परीक्षा परिणाम वाले स्कूलों में रीवा के 7, सतना के 11, सीधी के 17 एवं सिंगरौली के 10 स्कूल तथा 26 से 30 प्रतिशत तक वाले स्कूलों में रीवा के 12, सतना के 9, सीधी के 6 एवं सिंगरौली के 5 स्कूल शामिल हैं।

Read More: सीएम भूपेश बघेल ने की साहू समाज के कार्यक्रम में शिरकत, अब इस नाम से जाना जाएगा मरीन ड्राइव

<iframe width=”560″ height=”315″ src=”https://www.youtube.com/embed/dpa3C2Y8HLs” frameborder=”0″ allow=”accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture” allowfullscreen></iframe>