ऐसा है इस सरकारी अस्पताल का हाल, डॉक्टर छाता लेकर कर रहे मरीजों का इलाज

Reported By: Abhishek Soni, Edited By: Deepak Dilliwar

Published on 11 Jul 2019 05:20 PM, Updated On 11 Jul 2019 05:10 PM

अंबिकापुर: सरकार चाहे स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर कितने भी दावे करे, लेकिन समय-समय पर ऐसी तस्वीर सामने आती है जो उनके दावों की पोल खोलकर रख देती है। ऐसी ही एक तस्वीर सामने आई है अंबिकापुर जिले से, जहां डॉक्टर मरीजों का इलाज छाता पकड़कर कर रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि अस्पताल भवन की छत से पानी टपक रहा है। बताया जा रहा है कि अस्पताल की हालत ऐसी है कि यहां न तो दवा रखने की जगह है आर न ही मरीजों को भर्ती करने की जगह।

Read More: 20 लाख EVM मशीन गायब होने का मामला, हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग के खिलाफ पिटीशनर को दिया ये निर्देश

छाते के भरोसे मरीजो का इलाज़ जी हां आपको सुनकर थोड़ा अचरज जरूर हो रहा होगा, लेकिन सरगुजा जिले के उदयपुर क्षेत्र के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सलका का हाल ऐसा है। बारिश के इस मौसम में डॉक्टरों को छाता लगाकर इलाज करना पड़ रहा है। भारी अव्यवस्था से जूझ रहे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र किस तरह से लोगों को स्वास्थ्य सुविधा मुहैया करा रहा है, इसे आसानी से समझा जा सकता है। बिल्डिंग का ऐसा कोई भी कोना नहीं जहां पानी का जमाव ना हो। ऐसा नहीं है कि यह परेशानी नई हो बल्कि विगत कई वर्षों से यह परेशानी बनी हुई है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ चिकित्सक द्वारा इस बारे में उच्चाधिकारियों को लिखित में सूचित किया जा चुका है बावजूद इसके इस और ध्यान देने वाला कोई नहीं है।

Read More: सेमीफाइनल में अपना विकेट खोने के बाद रो रहे थे धोनी ! फैंस ने कही ये बात, वीडियो हो रहा वायरल.. देखिए

2 दिन पहले हुई तेज बारिश में डॉक्टर के साथ साथ मरीज भी परेशान रहे एक व्यक्ति छाता लेकर डॉक्टर के पीछे खड़ा रहा और डॉक्टर साहब मरीज के लिए पर्ची लिखते नजर आ रहे हैं। अच्छी स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के छत्तीसगढ़ सरकार के दावों की पोल खोलती। यह अस्पताल अपने आप में बहुत कुछ बयां कर जाती है।

Read More: मौसम विभाग का अलर्ट, अगले 48 घंटों में इन जगहों पर भारी बारिश की चेतावनी

इस बारे में प्रभारी चिकित्सक डीके पाण्डेय ने बताया कि इन सारी समस्याओं के बारे में लिखित और मौखिक में बताया जा चुका है, लेकिन उच्चाधिकारियों द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिया जाता। इस संबंध में सीएमएचओ से भी बात करने पर उनके द्वारा बताया गया कि भवन की स्थिति के बारे में जानकारी प्राप्त हुई है। बीएमओ उदयपुर को आवश्यक इंतजाम के लिए निर्देशित किया गया है। नए भवन की 75 लाख रुपए की स्वीकृति के अपश्चात टेंडर हो गया है। एक माह के भीतर नए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भवन का निर्माण चालू हो जाएगा।

Read More: क्या सच में नो बॉल पर आउट हुए धोनी? सोशल मीडिया पर इस सवाल पर मचा बवाल

इस संबंध में स्थानीय लोगों से बात करने पर लोगों ने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में हम लोग अपना इलाज कराने आते हैं आज वह खुद बीमार स्थिति में है उस जगह पर हमारा इलाज कैसे होता है यह कह पाना बहुत कठिन है।

7th Pay Commission: सरकारी कर्मचारियों के वेतनवृद्धि के लिए मोदी सरकार का नया फार्मूला, अप्रेजल पर पड़ सकता है असर

Web Title : Ambikapur Doctor treatment patient under umbrella in Government Hospital

जरूर देखिये