अब नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती से शुरू होगा गणतंत्र दिवस समारोह, केंद्र सरकार का अहम फैसला

अब हर साल गणतंत्र दिवस समारोह (Republic Day Celebrations) की शुरुआत नेताजी सुभाष चंद्र बोस जन्मदिन से शुरू हो जाएगा। अभी तक 24 जनवरी से गणतंत्र दिवस समारोह का औपचारिक आयोजन शुरू होता है,

: , January 15, 2022 / 05:40 PM IST

Republic Day 2022: अब हर साल गणतंत्र दिवस समारोह (Republic Day Celebrations) की शुरुआत नेताजी सुभाष चंद्र बोस जन्मदिन से शुरू हो जाएगा। अभी तक 24 जनवरी से गणतंत्र दिवस समारोह का औपचारिक आयोजन शुरू होता है, नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था, भारत सरकार के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अब हर साल सुभाष चंद्र बोस की जयंती यानि 23 जनवरी से गणतंत्र दिवस समारोह की शुरुआत होगी।

ये भी पढ़ें: न्यूयॉर्क में भारतीय मूल के सिख टैक्सी चालक पर हमला का आरोपी गिरफ्तार, घृणा अपराध का आरोप

गौरतलब है कि 1950 से हर साल देश की राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। इस दिन राष्ट्रपति राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं और इस अवसर पर भारतीय सैन्य बल अपने पराक्रम का प्रदर्शन करते हैं। इसके अलावा देश के विभिन्न राज्यों से कला और संस्कृति को समर्पित झांकी प्रस्तुत की जाती है जिसमें देश की विविधता की झलक मिलती है, इस समारोह को करीब 2 लाख लोग सामने से देखते हैं। हालांकि कोरोना के मद्देनजर पिछले साल सिर्फ 45 सौ लोगों को टिकट मिले थे, रक्षा मंत्रालय के उपर समारोह का सफलतापूर्वक आयोजन की जिम्मेदारी होती है।

ये भी पढ़ें: समुद्र के अंदर ज्वालामुखी फटने के बाद टोंगा ने सुनामी की चेतावनी जारी की

समारोह में भाग लेने वाले सभी प्रदर्शनों की तैयारी अगस्त से ही शुरू हो जाती है, सभी प्रतिभागियों को 26 जनवरी से 600 घंटे पहले पहुंचना अनिवार्य है। इसके लिए इंडिया गेट के सामने कैंप लगता है, रिहर्सल के दौरान प्रतिभागियों को 12 किलोमीटर का सफर तय करना होता है जबकि 26 जनवरी को उन्हें 9 किलोमीटर की दूरी तय करनी होती है। सभी कार्य़क्रम पूर्व नियोजित होते हैं और इसके लिए कई दिन पहले से रिहर्सल किया जाता है।

ये भी पढ़ें: बीजेपी में टिकट वितरण से नाराजगी.. मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल लड़ सकते हैं निर्दलीय चुनाव

24 जनवरी से गणतंत्र दिवस की औपचारिक शुरुआत हो जाती है जिसका समापन 29 जनवरी को बीटिंग द रिट्रीट (Beating The Retreat) कार्यक्रम के साथ हो जाता है। इस दौरान सेना की तीनों शाखाएं पारंपरिक धुन बजाते हुए मार्च करती हैं, विजय चौक में होने वाले इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रपति होते हैं। इस दौरान राष्ट्रपति से गणतंत्र दिवस समारोह खत्म करने की अनुमति मांगी जाती है।