मर्चेंट नेवी में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की ठगी ,शिकार युवक ने बताई आपबीती

Reported By: Renu Nandi, Edited By: Renu Nandi

Published on 27 Oct 2018 11:33 AM, Updated On 27 Oct 2018 11:33 AM

ग्वालियर।जिले की  पुलिस ने एक ऐसे गिरोह के  सदस्य को पकड़ा है जो बेरोजगारों को विदेश के मर्चेंट नेवी में नौकरी दिलाने के नाम पर मोटी रकम ठगता था। वहीं नौकरी की झासे में फंसे लोगों को मलेशिया और ईरान भेजने का सपना दिखते थे। युवकों को शक ना हो उसके लिए यह लोग टेस्ट पेपर, फिजिकल और ट्रेनिंग देते थे। दरअसल मुरार थाना क्षेत्र में ठगी का धंधा हरिदेश सिंह भदौरिया, देवसिंह,कारण और अजय चला रहे थे। इन लोगों ने सी लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ मरीन सीकर्स नाम से दफ्तर खोल रखा था। कुछ दिन पहले भुसावर जिला भरतपुर राजस्थान निवासी गौरव मीणा इन लोगों के झांसे में फस गया। इन लोगों ने गौरव को विदेश में मर्चेंट नेवी में नौकरी लगवाने का सपना दिखाकर दो लाख 90 हजार ठग लिए। ठगो ने गौरव के साथ साथ कई और युवकों का टेस्ट लिया था। जिसमें टेस्ट के दौरान गौरव सहित दो लोगों को इन लोगों ने चुना था और इन लोगों को ट्रेनिंग के लिए बुलाया। वही दो लोगों से ट्रेनिंग के दौरान 50 50 हजार रुपए लिए। वही गौरव से कहा कि वह उसको ईरान भेजेगे अगर वह राजी है तो उसे ट्रेनिग में डेढ़ लाख रुपए देने होंगे। ठगों की बातों में आकर गौरव ने डेढ़ लाख रुपए दे दिए और फिर उससे एक लाख 40 हजार और ऐंठ लिए। फर्जी ट्रेनिंग पूरी होने पर गौरव को मलेशिया भेज दिया वहां उसे डॉकयार्ड पर लकड़ियां ढोने का काम दिया गया। किसी तरह वहां से  गौरव वापस लौट कर आया और अपने साथ हुए फर्जीवाड़े का खुलासा कर पुलिस को बताया।

ये भी पढ़ें - खून में मिलावट के खूनी खेल से किया जा रहा था जान से खिलवाड़, 7 गिरफ्तार

 

जिस पर पुलिस ने हरिदेस सिंह को पकड़ लिया और उसके तीन अन्य साथी वहां से भाग निकले पुलिस ने उसके दफ्तर से भारी मात्रा में कई युवकों के फार्म प्राप्त किए हैं पुलिस को आशंका है कि ठगों ने विदेश में नौकरी लगवाने के नाम पर कई युवकों से लाखों रुपए वसूले हैं। वही पुलिस ने विदेशों में फंसे लोगों को विदेश मंत्रालय से बात कर वापस लाने का प्रयाश कर रही है। फिलहाल पुलिस ने आरोपियों खिलाफ ठगी का मामला दर्ज कर अन्य आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

वेब डेस्क IBC24

Web Title : Recruitment Fraud:

जरूर देखिये