भोली सूरत और सार्वभौमिक अपील वाले आकर्षक राजदूत: चीन की 'पांडा कूटनीति' का लंबा इतिहास |

भोली सूरत और सार्वभौमिक अपील वाले आकर्षक राजदूत: चीन की ‘पांडा कूटनीति’ का लंबा इतिहास

भोली सूरत और सार्वभौमिक अपील वाले आकर्षक राजदूत: चीन की 'पांडा कूटनीति' का लंबा इतिहास

:   Modified Date:  June 17, 2024 / 02:36 PM IST, Published Date : June 17, 2024/2:36 pm IST

(यू ताओ, चीनी अध्ययन में एसोसिएट प्रोफेसर, पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय

मेलबर्न, 17 जून (द कन्वरसेशन) रविवार को एडिलेड चिड़ियाघर की अपनी यात्रा के दौरान, चीन के प्रधान मंत्री ली कियांग ने घोषणा की कि आस्ट्रेलिया को 15 वर्ष पहले जो दो पांडा दिए गए थे, अब उनकी जगह उतने ही सुंदर और प्यारे दो युवा पांडा दिए जाएंगे। दरअसल 15 साल तक एडिलेड में रहने के बाद वांग वांग और फू नी इस वर्ष चीन वापस लौट जाएंगे।

दूसरे देशों को पांडा उपहार में देना लंबे समय से चीनी कूटनीति का हिस्सा रहा है। लेकिन वास्तव में चीनी सॉफ्ट पावर के पीछे अनोखा दृष्टिकोण क्या है? यह क्यों काम करता है? और क्या अब इसका ऑस्ट्रेलिया-चीन संबंधों पर गहरा असर पड़ेगा?

माओ से लेकर अब तक चीन की पांडा कूटनीति

पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना की पांडा कूटनीति 1950 के दशक में शुरू हुई जब राष्ट्रपति माओत्से तुंग के तहत नव स्थापित कम्युनिस्ट शासन ने वैचारिक संबंधों को मजबूत करने और राजनयिक सद्भावना को बढ़ावा देने के लिए अपने समाजवादी सहयोगियों को पांडा देना शुरू किया।

पिंग पिंग और क्यूई क्यूई, चीन के पहले पांडा ‘राजदूत’, 1957 में अक्टूबर क्रांति की 40वीं वर्षगांठ मनाने के लिए सोवियत संघ पहुंचे, जब बोल्शेविक पार्टी ने रूस में सत्ता पर कब्जा कर लिया था।

1972 में एक महत्वपूर्ण क्षण आया। अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन की बीजिंग की ऐतिहासिक यात्रा के बाद, दो पांडा, लिंग-लिंग और ह्सिंग-ह्सिंग को अमेरिका को उपहार में दिया गया। यह इशारा पश्चिमी देशों के साथ जुड़ने और शीत युद्ध के तनाव को कम करने की दिशा में चीन की विदेश नीति में रणनीतिक बदलाव का प्रतीक था।

उस वर्ष बाद में, चीन के साथ राजनयिक संबंध सामान्य होने के बाद, जापान को दो पांडा, कांग कांग और लैन लैन दिए गए।

1984 तक, तंग श्याओपिंग के नेतृत्व में, पांडा कूटनीति एकमुश्त उपहारों से दीर्घकालिक ऋणों में परिवर्तित हो गई, जिसने चीन के बाजार-उन्मुख आर्थिक सुधारों को मूर्त रूप दिया।

लीज़ मॉडल में पांडा को भारी शुल्क के बदले में ऋण के तौर पर दिया गया, आमतौर पर प्रति वर्ष 500,000 से दस लाख डॉलर के बीच और इस आय को चीन में पांडा के संरक्षण प्रयासों पर खर्च किया गया। ये समझौते आम तौर पर पांडा संरक्षण पर संयुक्त अनुसंधान परियोजनाओं को भी गति देते हैं, राजनयिक संबंधों के साथ-साथ वैज्ञानिक सहयोग को बढ़ावा देते हैं।

एडिलेड के वांग वांग और फू नी, जो वर्तमान में दक्षिणी गोलार्ध में एकमात्र विशाल पांडा हैं, 2009 में इस तरह के समझौते के तहत ऑस्ट्रेलिया आए थे।

वर्तमान चीनी नेता शी जिनपिंग के तहत, पांडा कूटनीति का इस्तेमाल नियमित रूप से अन्य देशों के साथ द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने की चीन की इच्छा को प्रदर्शित करने के लिए किया जाता रहा है।

उदाहरण के लिए, मलेशिया को चीन के साथ अपने राजनयिक संबंधों की 40वीं वर्षगांठ मनाने के लिए 2014 में दो पांडा मिले। इसी तरह, इंडोनेशिया के साथ संबंधों की 60वीं वर्षगांठ के हिस्से के रूप में 2017 में दो पांडा वहां भेजे गए थे।

2017 में जर्मनी को दो पांडा का ऋण शी की बर्लिन यात्रा के साथ मिला। वह और तत्कालीन जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल चिड़ियाघर बर्लिन में पांडा गार्डन के आधिकारिक उद्घाटन समारोह में भी शामिल हुए।

यहां तक ​​कि अमेरिका और चीन के बीच हालिया तनाव से भी पांडा की कूटनीति पटरी से नहीं उतरी है। पिछले साल, अमेरिका ने तीन पांडा – तियान तियान, मेई जियांग और उनके अमेरिकी मूल के बेटे जिओ क्यूई जी (जिसका मंदारिन में अर्थ है ‘नन्हा चमत्कार’) – वाशिंगटन के स्मिथसोनियन चिड़ियाघर से चीन को लौटा दिये। लेकिन शी ने कहा कि इस साल के अंत में दो नए विशाल पांडा उनकी जगह लेंगे, उन्होंने उन्हें ‘चीनी और अमेरिकी लोगों के बीच दोस्ती के दूत’ कहा।

पांडा प्यारे और करिश्माई होते हैं। अपने सौम्य व्यवहार के कारण पांडा को शांति और मित्रता के प्रतीक के रूप में देखा जाता है।

हालाँकि, पांडा में उनके आकर्षण के अलावा और भी बहुत कुछ है। वे स्पष्ट रूप से चीनी हैं – वे केवल चीन के जंगलों में पाए जाते हैं – फिर भी सार्वभौमिक आकर्षण रखते हैं। उन्होंने जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दों पर प्रकाश डालते हुए लंबे समय से लुप्तप्राय और कमजोर प्रजातियों पर वैश्विक ध्यान आकर्षित किया है। विश्व वन्यजीव कोष का लोगो, एक पांडा है, जो संरक्षण आंदोलनों के लिए एक सार्वभौमिक प्रतीक के रूप में अपने महत्व को प्रदर्शित करता है।

राजदूतों के रूप में उनकी प्रभावशीलता के बावजूद, पांडा का कैद में प्रजनन करना अविश्वसनीय रूप से कठिन होता है। उदाहरण के लिए, वांग वांग और फू नी, एडिलेड के चिड़ियाघर में लंबे समय तक रहने के बावजूद गर्भधारण करने में विफल रहे।

एक और चुनौती यह है कि पांडा अपनी देखभाल की कठोर आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए मेजबान देशों पर काफी वित्तीय दबाव डाल सकते हैं।

ली की एडिलेड चिड़ियाघर की यात्रा – उनकी ऑस्ट्रेलिया यात्रा का पहला पड़ाव – ऑस्ट्रेलिया के साथ अपने संबंधों को स्थिर करने और सुधारने की चीन की इच्छा का प्रतीक है।

पिछले नवंबर में अपनी चीन यात्रा के दौरान पांडा को ऑस्ट्रेलिया में ही रहने देने के प्रधान मंत्री एंथनी अल्बानीज़ के आह्वान के जवाब में, ली का इशारा दोनो देशों के बीच वर्षों के ठंडे संबंधों के बाद एक महत्वपूर्ण राजनयिक कदम का प्रतिनिधित्व करता है।

अमेरिका में एक अनुभवजन्य अध्ययन से पता चला है कि चीनी संस्कृति, लोगों और सरकार के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण बनाने में पांडा कूटनीति अपेक्षाकृत प्रभावी रही है।

हालाँकि, पांडा केवल इतना ही कर सकते हैं। एक हालिया सर्वेक्षण से संकेत मिलता है कि पिछले साल राजनयिक संबंधों में सुधार के बावजूद, ऑस्ट्रेलियाई लोग चीन की सरकार से सावधान रहते हैं।

और गंभीर चुनौतियों के कारण ऑस्ट्रेलिया-चीन संबंधों की परीक्षा जारी रहने की उम्मीद है, जैसे ऑस्ट्रेलिया का अमेरिका के साथ बढ़ा हुआ सुरक्षा गठबंधन, चीनी-ऑस्ट्रेलियाई लेखक यांग हेंगजुन की कैद और चीनी और ऑस्ट्रेलियाई सेनाओं के बीच हालिया टकराव।

ऐसे में, कुछ टिप्पणीकारों ने अल्बानीज़ को चेतावनी दी है कि वे ली की यात्रा को चीन के लिए ‘प्रचार वरदान’ न बनने दें। अंततः, किसी भी द्विपक्षीय रिश्ते की सफलता का असली पैमाना पांडा कूटनीति के प्रतीकवाद से परे, ठोस नीतिगत बदलावों और आपसी विश्वास पर निर्भर करेगा।

द कन्वरसेशन एकता एकता

एकता

 

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Flowers