वीरांगना पर दंगल क्यों…आमजन को इससे क्या हासिल होगा?

वीरांगना पर दंगल क्यों...आमजन को इससे क्या हासिल होगा?

Edited By: , June 18, 2021 / 05:55 PM IST

भोपाल: नाम में क्या रखा है…काम बोलना चाहिए, लेकिन आज की पॉलिटिक्स देंखेंगे तो आप भी कहेंगे नाम में भरपूर सियासी स्कोप रखा है। इन दिनों प्रदेश की सियासत में नाम बदलने की होड़ लगी है। एक के बाद एक शहर, मोहल्ला, टीला, ब्रिज कई जगहों के नाम बदलने की मांग की जाती रही है। पहले कई भाजपा नेताओं ने इंदौर, भोपाल, होशंगाबाद और उज्जैन समेत कई शहरों के नाम बदलने की वकालत की, तो अब कांग्रेस पार्टी ने भी ग्वालियर शहर का नाम बदलकर रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर करने की मांग कर दी है। वो भी उनके बलिदान दिवस पर जाहिर है इस पर वार-पलटवार और सियासी बयानों की बयार आनी ही थी।

Read More: PUBG लाइवस्ट्रीम के दौरान ‘गंदी बातें’ करते थे YouTuber कपल, 3 लाख रुपए है महीने की कमाई, 2 ऑडी भी है घर पर

मामले में भाजपा खुद असमंजस में दिखती है क्योंकि केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर इस मांग को हास्यास्पद बता रहे हैं तो सांसद के पी यादव के मुताबिक जनभावना का सम्मान होना ही चाहिए। बड़ा सवाल ये कि इस मांग पर इस पर होती सियासत पर विराम कैसे लगेगा? उससे भी बड़ा सवाल ये कि आमजन को इससे क्या हासिल होगा?

Read More: सीएम बघेल ने शेयर की स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी स्कूल की फोटो, कहा- 15 वर्षों तक थमा छत्तीसगढ़, अब गढ़ रहे ‘नवा छत्तीसगढ़’

बड़ी संख्या में लोग रानी लक्ष्मीबाई की बलिदान दिवस के मौके पर उनके समाधि स्थल पर श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। लेकिन खास बात ये रही कि इस बार श्रद्धांजलि देने वालों में ग्वालियर के कांग्रेस नेता भी पहुंचे, जो अब तक इस मौके से दूर ही रहते थे। रानी लक्ष्मीबाई को नमन करते हुए कांग्रेसियों ने सिंधिया परिवार पर जमकर बरसे। जबलपुर में भी कांग्रेस नेताओं ने वीरांगना लक्ष्मीबाई को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर विधायक विनय सक्सेना ने कहा कि पूरा देश जानता है कि देश की आजादी की अलख जगाने वाली रानी लक्ष्मीबाई की पीठ पर छुरा किसने घोपा?

Read More: राज्य सरकार की योजनाओं से किसान हो रहे आर्थिक दृष्टि से मजबूत : सीएम भूपेश बघेल, कोरबा, जांजगीर-चांपा जिले को दी 226.96 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात

इन सबके बीच मध्यप्रदेश में एक बार फिर नाम बदलने की सियासत शुरू हुई। रानी लक्ष्मीबाई के बलिदान दिवस पर कांग्रेस नेताओं ने ग्वालियर शहर का नाम बदलने की मांग की। वैसे मांग तो कांग्रेसियों ने की, लेकिन इसका समर्थन गुना के बीजेपी सांसद केपी यादव भी कर रहे हैं, जिन्होंने सिंधिया को चुनाव में हराया था। हालांकि बीजेपी नेता इसे केपी यादव का निजी विचार बता रहे हैं।

Read More: छत्तीसगढ़ में हर परिवार को मिल रहा है राशन, सीएम भूपेश बघेल के निर्देश पर की गई गरीब परिवारों को मुफ्त चावल की व्यवस्था

इधर कांग्रेस ने प्रस्ताव पारित कर ग्वालियर का नाम वीरांगना लक्ष्मीबाई महानगर करने की मांग सीएम शिवराज से की है। कुल मिलाकर रानी लक्ष्मीबाई के बलिदान दिवस पर एमपी में नाम बदलने की राजनीति में एक ओर डिमांड जुड़ गई। इस बार ये डिमांड बीजेपी ने नहीं बल्कि कांग्रेस की तरफ से है। बहरहाल नाम बदलने की सियासत में शामिल हुई कांग्रेस को रानी लक्ष्मीबाई के बहाने सिंधिया की घेराबंदी करने का एक और मौक मिल गया है।

Read More: मेडिकल बुलेटिन: छत्तीसगढ़ में आज 1122 लोग हुए डिस्चार्ज, 509 नए मरीजों की पुष्टि, 07 की मौत

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

rani lakshmi bai rani lakshmi bai movie rani lakshmi bai real photo rani lakshmi bai in hindi rani lakshmi bai essay rani lakshmi bai cause of death rani lakshmi bai son rani lakshmi bai husband name rani lakshmi bai civ 6 rani lakshmi bai story jhansi rani lakshmi bai rani lakshmibai rani lakshmi bai in hindi rani lakshmi bai real photo images of rani lakshmi bai rani lakshmi bai central agricultural university rani lakshmi bai pictures of rani lakshmi bai rani lakshmi bai biography rani lakshmi bai history rani lakshmi bai rani lakshmi bai full movie in hindi rani lakshmi bai ki kahani rani lakshmi bai movie rani lakshmi bai song rani lakshmi bai episode 1 rani lakshmi bai story rani lakshmi bai drawing rani lakshmi bai episode 2 rani lakshmi bai episode 19 rani lakshmi bai episode 7 rani lakshmi bai episode 11 rani lakshmi bai episode 18 rani lakshmi bai real photo