जांजगीर में खिला ब्रम्ह कमल, शास्त्रों में दर्शन की बड़ी मान्यता

Reported By: Rajkumar Sahu, Edited By: Shahnawaz Sadique

Published on 18 Aug 2019 02:30 PM, Updated On 18 Aug 2019 02:30 PM

जांजगीर-चाम्पा. जांजगीर में बीआरसी ऋषिकान्ता राठौर के घर के आंगन में ब्रम्ह कमल के खिलने के बाद दर्शन के लिए देर रात लोगों की भीड़ जुट गई. ब्रम्ह कमल दर्शन की शास्त्रों और पुराणों में बड़ी मान्यता है और दर्शन से सभी मनोकामना पूरी होती है. ब्रम्ह कमल, सूर्यास्त के बाद खिलता है और रात 12 बजते ही, खिले हुए ब्रम्ह कमल की फ़ंखुड़ियाँ बन्द हो जाती है. ब्रम्ह कमल की खासियत है कि ब्रम्ह कमल हमारे इस क्षेत्र में विरले मिलते हैं, वहीं बरसों इंतजार के बाद ही ब्रम्ह कमल खिलता है. वैसे, ब्रम्ह कमल हिमायल क्षेत्र में ही मिलता है और इसलिए ब्रम्ह कमल को हिमालयी फूलों का राजा कहा जाता है.
जांजगीर में बीआरसी ऋषिकान्ता राठौर के निवास के आंगन में 1998 से ब्रम्ह कमल है, लेकिन ब्रम्ह कमल सबसे पहले 2015 में खिला, फिर 2018 में खिला और इस साल 2019 में खिला है. शास्त्रों व पुराणों में ब्रम्ह कमल की बड़ी मान्यता होने से नारियल लेकर लोग, देर रात दर्शन के लिए भीड़ जुटी और लोगों ने मनोकामना के लिए प्रार्थना की.

Read More: पाकिस्तान को करारा जवाब, सेना की कार्रवाई में पाक चौकी ध्वस्त, नौशेरा में 1 जवान शहीद


बीआरसी ऋषिकान्ता राठौर और उनके पति आनन्द राठौर खुद को सौभाग्यशाली मानते हैं कि उनके घर के आंगन में ब्रम्ह कमल खिला है. 15 साल से ज्यादा समय बाद उनके घर के आंगन में ब्रम्ह कमल खिला था. इस साल फिर ब्रम्ह कमल खिला है, जिसके बाद लोग दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं. उनका कहना है कि ब्रम्ह कमल के दर्शन की बड़ी मान्यता है और हर कामना पूरी होती है.

Read More: कांग्रेस में अयोग्य करार दिए गए नेता ने खरीदी 11 करोड़ की रोल्स रॉय...

ये भी पढ़ें: सहयोगी दल शिवसेना पर केंद्रीय मंत्री गडकरी का करारा प्रहार, मुंबई महानगरपालिका को लेकर कही ये 

पढ़े- व्यापारी से 51 लाख की लूट, चार बाइक सवारों ने कार रोककर दिया वारदात को अंजाम

ये भी पढ़ें: CM भूपेश बघेल का बड़ा फैसला, लोहण्डीगुड़ा बनेगा नया राजस्व अनुभाग, आसना में बस्तर लोक 

पढ़ें- भाजपा प्रदेश प्रवक्ता पर महिला एसआई को धमकाने का आरोप, केस दर्ज करन

Web Title : Brahma Kamal In Janjgir Chhattisgarh, Brahma Kamal - rare, legendary & mythological plant of India

जरूर देखिये