अंत्याव्यवसायी निगम के तीन अधिकारी-कर्मचारी बर्खास्त, भ्रष्टाचार के आरोप में कोर्ट पहले ही सुना चुका है सजा

 Edited By: Vivek Mishra

Published on 16 May 2019 09:24 PM, Updated On 16 May 2019 09:17 PM

रायपुर। अंत्यावसायी सहकारी वित्त एवं विकास निगम के संचालक अलेक्स पाल मेनन ने कड़ी कार्रवाई करते हुए निगम के तीन अधिकारी और कर्मचारियों को बर्खास्तगी के आदेश थमा दिए हैं। इन तीनों अधिकारियों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा हुआ है।

ये भी पढ़ें: कर्ज के मामले में जेल भेजे गए किसानों को मिली जमानत, दोषियों के खिलाफ 

बता दे कि, बर्खास्त हुए कर्मचारियों में प्रभारी कार्यपालन अधिकारी जिला अंत्यावसायी निगम विकास समिति के पिताम्बर राम यादव, जिला अंत्यावसायी निगम धमतरी के सहायक ग्रेड-2 के कर्मचारी शनिराम सुमन, और भृत्य अंत्यावसायी व्यावसायिक प्रशिक्षण केन्द्र दुर्ग के मानवेन्द्र चक्रवर्ती का नाम शामिल है।

ये भी पढ़ें: जनसंपर्क मंत्री ने कहा- प्रदेश में सभी सीटें जीतेगी कांग्रेस, सुनील जोशी हत्याकांड की 

मामले में निगम द्वारा जारी आदेश के अनुसार इन अधिकारी-कर्मचारियों को जिला सत्र न्यायालय दुर्ग ने 16 अप्रैल 2019 को 1996 में हुए घोटाले के मामले में अलग-अलग धाराओं के तहत दोषी मानते हुए अर्थदड समेत एक साल की सजा सुनाई है।

Web Title : Three officers of the intermediate corporation have been heard before the court for dismissal, corruption and corruption

जरूर देखिये